Centre d’études et de recherche sur l’Inde, l’Asie du sud et sa diaspora (CERIAS)
Accueil > Mandat > Mandat

Mandat

Le Centre d’études et de recherche sur l’Inde, l’Asie du Sud et sa diaspora (CERIAS) est un regroupement académique interdisciplinaire et francophone dont l’objet d’étude est l’Asie du Sud et sa population. Le CERIAS regroupe des chercheurs, professeurs et étudiants de l’Université du Québec à Montréal et d’autres universités.

L’Asie du Sud est ici définie comme une aire géographique regroupant le Bangladesh, le Bhoutan, les Maldives, le Myanmar, le Népal, le Pakistan, le Sri Lanka et, bien entendu, l’Inde.

Le mandat du CERIAS est de promouvoir le rassemblement, la coordination et les échanges d’universitaires dont le domaine d’études est en lien avec l’Asie du Sud et sa diaspora, que ce soit dans les domaines des arts et lettres, des sciences humaines ou sociales, des sciences politiques et du droit, de l’économie, de l’éducation, des technologies de l’information et des communications, ou de l’environnement.

Le CERIAS encourage et appuie le développement d’échanges et de relations entre chercheurs (professeurs et étudiants) d’ici et de l’Asie du sud. Il reçoit des professeurs et des étudiants de l’Asie du Sud et, inversement, facilite le séjour de chercheurs d’ici pour aller dans les institutions universitaires de l’Asie du Sud. Il appuie aussi la création de programmes d’études, de recherches et de diffusion d’information dont l’objet est intimement lié à cette région du globe. Le CERIAS est un pôle de référence sur l’Asie du Sud, tant auprès des communautés universitaires québécoise et canadienne qu’auprès des gouvernements et des principaux partenaires de la société civile.

Le CERIAS encourage également différentes recherches sur les communautés d’origine sudasiatique en territoire québécois, l’objectif étant de mieux comprendre le fonctionnement de ces dernières en territoire québécois afin de faciliter leur intégration active à la société d’accueil. La diaspora sud-asiatique est vaste et présente partout sur le globe. Le Royaume-Uni et les États- Unis en sont les principaux pays d’accueil. Plusieurs pays d’Afrique du Sud, de l’Océan Indien et de l’Asie du Sud-Est (Singapour, Malaysia) comptent également une population d’origine sudasiatique significative. Quant au Canada, plus d’un million de ses citoyens sont d’origine sudasiatique, alors que plus de 40,000 d’entre eux vivent sur l’île de Montréal.

English follows


भारत, दक्षिण एशिया और उनके डायस्पोरा पर अध्ययन और अनुसंधान का सैंटर। (CERIAS)

वर्णन

भारत, दक्षिण एशिया और उनके डायस्पोरा पर अध्ययन और अनुसंधान का सैंटर (CERIAS ), एक अंतर्विशेयक, फ्रैंकोफ़ोन शैक्षिक समूह है जो दक्षिण एशिया और उनकी जनसंख्या का अध्ययन करता है। इस केन्द्र में शोधकर्ताओं, प्रोफेसरों, यूनिवरसिटी दु क्युबेक अ मोन्ट्रीयाल (UQAM) के विद्यार्थी और अन्य विश्वविद्यालयों के विद्यार्थी भी शामिल हैं।
भौगोलिक दृष्टि से, दक्षिण एशिया में बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका और भारत शामिल है।

CERIAS आर्ट्स (कला), यूमॅनिटीस और सामाजिक विज्ञान (सोशल साइंसेज), राजनीति विज्ञान (पोलिटिकल साइंस) और कानून, अर्थशास्त्र, शिक्षा, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी और कम्युनिकेशन्स, और पर्यावरण अध्ययन (एनवायरनमेंटल स्ट्डीज़) के क्षेत्र में दक्षिण एशिया और उनके डायस्पोरा से संबंधित कॉलेज एक्सचेंजों के समन्वय को बढ़ावा देकर, इन क्षेत्रों में किए गए काम को इकट्ठा करता हैं।

यह सैंटर स्थानीय और दक्षिण एशियाई शोधकर्ताओं (प्रोफेसर और विद्यार्थी दोनों) के बीच संपर्क और एक्सचेंजों के विकास का समर्थन और प्रोत्साहन करता है। मॉन्ट्रियल में दक्षिण एशियाई शोधकर्ताओं की मेजबानी के साथ साथ, CERIAS क्यूबेकी शोधकर्ताओं के लिए दक्षिण एशियाई विश्वविद्यालयों के दौरे को सुविधाजनक बनाता हैं। CERIAS एसे पाठ्यक्रम के निर्माण, अनुसंधान और सूचना के प्रसार (इनफार्मेशन दस्सिमिनाशन) का समर्थन भी करता है जिसका उद्देश्य दक्षिण एशियाई क्षेत्रों से संबंधित है। CERIAS केवल दक्षिण एशियाई अध्ययन के लिए एक संदर्भ केन्द्र नहीं है, बल्की कनाडा और क्यूबेक सरकारों और नागरिक समाज के प्राथमिक भागीदारों के लिए भी है।

इसके अतिरिक्त, CERIAS क्यूबेक में रहने वाले दक्षिण एशियाई समुदायों पर अनुसंधान को प्रोत्साहित करता है, जिससे उनका क्यूबेक समाज में एकीकरण हो पाए। यूनायटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम सबसे ज्यादा दक्षिण एशियाई आप्रवासियों का स्वागत करते हैं, हालांकि, दक्षिण एशियाई डायस्पोरा विश्व भर में मौजूद है। हिंद महासागर के पास वाले देश, दक्षिण अफ्रीका और दक्षिण-पूर्व एशिया (सिंगापुर, मलेशिया) के कई देशों में भी दक्षिण एशियाई लोगों की एक बड़ी संख्या है। दस लाख कनाडाई नागरिक में से एक लाख से अधिक मॉन्ट्रियल में रहते हैं, जो दक्षिण एशियाई मूल के हैं।

लक्ष्य

2023 तक CERIAS भारत, दक्षिण एशिया, और उसके डायस्पोरा पर शिक्षा और अनुसंधान के लिए एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त फ्रैंकोफ़ोन सैंटर के रूप में खुद को स्थापित करना चाहता हैं। सैंटर की मदद से कई बहुविशेयक अनुसंधान परियोजनाओं और उन परियोजनाओं के कई शोधकर्ताओं को लाभ होगा। CERIAS दक्षिण एशियाई देश और क्यूबेक के बीच छात्र आदान प्रदान को सुविधाजनक बनाने के लिए भी इन्फ़्रास्ट्रक्चर पैदा करेगा।


Center of Study and Research on India, South Asia and its Diaspora (CERIAS)

Description

The Centre of Study and Research on India, South Asia and its Diaspora (CERIAS) is an interdisciplinary, francophone academic group that studies South Asia and its population. It includes researchers, professors, and students of l’Université du Québec à Montréal (UQAM) and other universities.

Geographically, South Asia includes Bangladesh, Bhutan, Maldives, Myanmar, Nepal, Pakistan, Sri Lanka, and India.

The CERIAS promotes the collation and coordination of collegial exchanges related to South Asia and its diaspora across the domains of arts, humanities and social sciences, political science and law, economics, education, information technology and communications, and environmental studies.

It also encourages and supports the development of academic relations and exchanges between local and South Asian researchers (both professors and students). The CERIAS hosts South Asian researchers in Montreal while facilitating trips to South Asian universities for Quebecois researchers. It also works towards the curriculum creation, research, and information diffusion related to South Asia. The CERIAS provides a reference point for South Asian studies, as much for Quebecois university as for Quebec and Canadian Governments and for civil society’s primary partners.

Additionally, the CERIAS encourages research on South Asian communities living in Quebec to increase the understanding of their cultures so as to integrate them into society. Though the United States and the United Kingdom welcome most South Asian immigrants, the vast South Asian diaspora manifests itself around the globe. Multiple countries in South Africa, countries around the Indian Ocean, and in Southeast Asia (Singapore, Malaysia) also contain a significant number of South Asians. Over one million Canadian citizens, of whom a hundred thousand live in Montreal, are of South Asian heritage.

Goal

By 2023, CERIAS aims to position itself as an internationally recognized francophone center for education and research on India, South Asia, and its diaspora. Many multidisciplinary research projects, each including numerous researchers, will also benefit from the organization’s aegis. The CERIAS will also create infrastructures facilitating student exchanges between South Asian countries and Quebec.

Flèche Haut